“माना दुनियाँ बुरी है”

माना दुनियाँ बुरी है
सब जगह धोखा है,

लेकिन हम तो अच्छे बने
हमें किसने रोका है..

रिश्तो की सिलाई अगर
भावनाओ से हुई है
तो टूटना मुश्किल है..
और अगर स्वार्थ से हुई है,
तो टिकना मुश्किल है…

Shabdsiyapaaa©

Author: Shabd Siyapaa

4 thoughts on ““माना दुनियाँ बुरी है”

Comments are closed.