“क़दर”

कदर करनी है तो ज़िंदा हैं तब करो
वरना बाद में तो,
मुर्दो को भी तवज्जों दिया ही करते हैं !

©Kabir

Shabdsiyapa

Author: Shabd Siyapaa