🍁 Surat vs Seerat 🍁

हैं वक़्त का बस यही तकाज़ा
खूबसूरत हो चाहे कितनी भी सूरत
हैं असर बस इसका ज़रा-सा
सीरत का रिश्ता हैं ये गहरा-सा

हकीकत कब खूबसूरत हुई हैं
यूँ तो चाँद में भी दाग होता हैं

सूरत चाहे कितनी भी अच्छी हो
सीरत बिना बदसूरत ही लगती हैं
होती हैं हर शख़्स की पहचान सीरत
सीरत बिना सूरत कहां जचती हैं

सीरत नही तो सूरत वो हैं बेबाक सी
बस उलझन हैं ये दिल और दिमाग की

-By Kabir…

Shabdsiyapaaa©

Written Date:- 15 feb. 2018

RePub. Date:- 20 Apr 2018

Author: Shabd Siyapaa

6 thoughts on “🍁 Surat vs Seerat 🍁

Comments are closed.